इस आदमी की असली उम्र जानकर दंग रह जाएंगे

0


हर कोई चाहता है की वो हमेशा फिट रहे लेकिन हर कोई ये कर नही पता है. मॅगज़ीन्स के कवर पेज पर आने वाली मॉडेल्स को देख कर हम ये ही सोचते है की काश हमारा शरीर इनके जैसा फिट हो जाए लेकिन वास्तविकता मे हम इसके लिए उतने प्रयास नही करते है. मॉडेल जाएसा तो नही लेकिन हम थोड़े बोहोट प्रयास करके अपने शरीर को सही शेप मे तो रख ही सकते है. कुछ सरल कसरते है जो शरीर के अनचाहे मोटापे को डोर कर सकती है.
इंसान मे बस इच्छा शक्ति होनी चाहिए.आप जिनकी तस्वीर देख रहे है ही है पावेल लड्ज़ाक जिनकी उमर देखने मे 60-65 साल लगती है . पावेल अपने शाईर को हमेशा ही फिट रखना चाहते है चाहे वो कितनी ही उमर हो जाए.लोग अपने बुडापे मे ये सोच लेते है के अब वो कुछ नही कर सकते है. कसरत तो करने की कोई सोचता भी नही है. बड़ापे मे ज़्यादातर लोगो का शाईर उनका साथ चोर देता है जिसका कारण होता है उनकी कम शारारिक कसरत.


आप हमेशा ही कसरत करते रहे और अपने शाईर को शुस्त और दुरुस्त बना कर रहे तो ऐसी समस्या का सामना आपको नही करना पड़ेगा.पावेल की असली उम्र जान कर आपको बहुत ही आश्चर्या होगा. पावेल जिस तरीके से रहता है, उनको देख कर सभ ही ये सोचते है उनकी उम्र बोहोट ज़्यादा होगी लेकिन वास्तविकता मे उनकी उम्र सिर्फ़ 35 ही है. जी हा, सोच मे पड़ गये ना आप के 35 की उम्र का आदमी इतना बूढ़ा कैसे लग सकता है. बात ये है की पॉवेल अपने बाल साहेद डाई करते है. उनकी इच्छा है के वो तोम्र फिट बने रहे. पॉवेल को पोलिश वाइकिंग के नाम से भी जाना जाता है.

बात ये है की पॉवेल अपने बाल सफेद डाई करते है. उनकी इच्छा है के वो तोम्र फिट बने रहे. पॉवेल को पोलिश वाइकिंग के नाम से भी जाना जाता है. उनकी ये सारी तस्वीरे मीडीया और इंस्टाग्राम पर विराल है. लोग पहले तो देख कर अचंभित ही रह जाते है के आख़िर इतनी ज़्यादा उर्म का आदमी इतना फिट काएसए लग सकता है. पॉवेल ने अपनी एक अलग ही जगह बना ली है फिटनेस के दुनिया मे. उम्मीद करते है पॉवेल को देख आपका मनोबल पड़ा होगा. उनकी इच्छा सकती और प्रयासो को देख कर आपको भी फिट रहने के लिए जोश मिला होगा.

पावेल सभी युवाओ आंड बूढ़ो के लिए एक मिसाल के तौर पर उभरे है. उनने अभी इस फ़ैसले से लखो लोगों की ज़िंदगियो को प्रभावित किया है. युवायों को पावेल ने दिखाया है के वो किसी भी तरह अपने आप को ढाल सकते है.

इसी तरह ज़्यादा उम्र के लोगो को पावेल ने ये संदेश पहुँचाया है के भालेहि उम्र कितनी ही हो जाए आप अगर चाहते है खुद को चुस्त और दुरुस्त रखना तो ये संभव है.


पावेल ने नयी पीडी के लिए ट्रेंड सेट कर दिया है. एक आशा है के ये पीढ़ी और आने वाली पीढ़िया अपने बुढ़ापे को अपने काज़ोरी नही संघेगी और गरह जोश से जिएगी. शरीर को शुस्त रखना बहुत ही ज़रूरी है ये भी सिखाया है पावेल ने. अब लोग बुडापे मे भी स्टाइलिश और ट्रेंड के साथ रहने की कोशिश करेंगे और एक तरफ से देखा गये तो ये सही भी है. इंसान का दिमाग़ जब तक किसी चीज़ मे व्यस्त रहता है तक वो स्वस्थ रहता है.आशा करते है पॉवेल को देख कर उनकी कहानी जानकर् आपको अपने जीवन मे शुस्त और दुरुस्त बने रहने की प्रोत्साहन मिला होगा और आप इसे अपने जीवन मे करने की कोशिश ज़रूर करेंगे.